Tuesday, September 6, 2011

यायावर

बेफिक्र हस्ती, जिनपे छाई रहे मस्ती
चलते हैं जो अंजान राहों पर निडर
हां, वही कहलाते यायावर....

सबकी अपनी तलाश, वे न होते हताश
ना पाने की ख़ुशी और न ही खोने  डर
हां, वही कहलाते यायावर...

सोच उनकी प्रबल, उनको भाए नवल
जिनकी मंजिल हैं रास्ते, ना कि घर
हां, वही कहलाते यायावर...

2 comments: